Archive for October, 2010

कामनवेल्थ सबकी हेल्थ


कामनवेल्थ सबकी हेल्थ
देखो खेलगाव का मेला
कामनवेल्थ सभी ने खेला
लेकिन सबसे बड़े खिलाडी
तो निकले मिस्टर कलमाड़ी
पहलवान ने दाव लगाये
कुश्ती जीती,गोल्ड जिताए
कलमाड़ी ने दाव लगाया
सबसे ज्यादा गोल्ड कमाया
अपने हिन्दुस्तानी शूटर
रहे पदक में सबसे उपर
लेकिन नहीं कोई भी शूटर
निकला कलमाड़ी से बढ कर
शुरू किया जब शूटिंग करना
बजट शूट हो गया सोगुना
रिले रेस में भी बिलकुल फिट
खुद फिर गिल खन्ना फिर दीक्षित
उनसे अच्छा तीरंदाज
नहीं मिलेगा तुमको आज
ऐसा आया कामनवेल्थ
बनी कई लोगो की हेल्थ
सोचो यदि युग होता त्रेता
कलमाड़ी सा कोई नेता
रामसेतु का ठेका पाता
क्या टाइम पर पुल बन जाता
दाम दस गुने,होती लूट
बनता भी तो जाता टूट
तो फिर केसे रावण मरता
और दशहरा केसे मनता
इसीलिए इश्वर की माया
कलमाड़ी कलयुग में आया

आत्म दीप


आत्म दीप
लो फिर से आगई दिवाली
मेरे मन के दीप्त दीप पर
उस प्रदीप पर
काम क्रोध के
प्रतिशोध के
वे बेढंगे
कई पतंगे
शठरिपु जैसे
थे मंडराए
मुझ पर छाये

पर मेने तो
उनको सबको
बाल दिया रे
अपने मन से
इस जीवन से
मेने उन्हें निकाल दियाRE

मगन में जला
लगन से JALA
और मेने शांति की दुनिया बसा ली
लो फिर से आ गयी दिवाली

Self Enlightment


OH,THE FESTIVAL OF DIWALI HAS COME AGAIN
ON THE ENLIGHTENED EARTHEN POT
AND THE DANCING FLAME OOF MY HEART
ALL THE INSECTS OF GREED AND ANGER
SEX,HATRED,REVENGE AND FEAR
STARTED DANCING AROUND THE FLAME
BUT I HAVE BURNT ALL OF THEM
ALL THEIR ATTEMPS TO LURE ME FAILED
AND THE LIGHT OF TRUTH AND PEACE PREVAILED
QH,THE FESTIVAL OF DIWALI HAS COME AGAIN

बिजली अवतार


बिजली अवतार
होती देखी जब घर घर नारी की पूजा
लख कर महिमा कलियुग की प्रभु को यह सूझा
फारवर्ड होती जाती नारी दिन प्रतिदिन
करदे ना मेरे खिलाफ भी वो आन्दोलन
जितने भी अवतार लिए सब पुरुष रूप धर
लक्ष्मी जी को बिठा रखा है घर के अन्दर
वो नारी है, उनको आगे लाना होगा
लक्ष्मी जी को अब अवतार दिलाना होगा
किया विचार, तनिक कुछ सोचा,मन में डोले
पर क्या करते जा कर लक्ष्मी जी से बोले
सुनो लक्ष्मी धरती पर छाया अँधियारा
आवश्यक है अब होना अवतार हमारा
होगा दूर अँधेरा उजियारा लाने से
पर मै तो डरता हूँ धरती पर जाने से
राम बनूगा ,लोग कहेगे कैसा पागल
मान बाप की बात अरे जाता हे जंगल
गर नरसिंह बनू तो भी आफत कर देंगे
निश्चित मुझे अजायब घर में सब धर देंगे
कृष्ण बनूगा तो भी आफत हो जायेगी
सेंडिल खा खा मुफ्त हजामत हो जाएगी
मै डरता हूँ सुनो लक्ष्मी मेरी मनो
जरा पति के दिल के दुःख को भी पहचानो
अब के से तो तुम्ही लो अवतार धरा पर
तुम भी दुनिया को देखो पृथ्वी पर जाकर
मेरी मत सोचो में काम चला लूँगा
मै कैसे भी अपनी दाल गला लूँगा
मगर प्रियतमे कभी कभी मुझ तक भी आना
बारिश की बिजली के संग मुझसे मिल जाना
कहते कहते आंसू की बोछार हो गयी
पति की व्यथा देख लक्ष्मी तैयार हो गयी
बिदा लक्ष्मी हुई आँख से आंसू टपके
पहले समुद्र से प्रकटी थी वो लेकिन अबके
नारी थी उसने नारी का ख्याल किया

ना समुद्र पर नदिया से अवतार लिया
बंधे बांध से टकरा प्रकटी बिजली देवी
किया अँधेरा दूर सभी बन कर जनसेवी
चंद दिनों में ही फिर इतना काम बढाया
दुनिया के कोने कोने में नाम बढाया
बिजली को अवतार दिला सच सोचा प्रभु ने
बिन बिजली के तो हें सब काम अलूने
रातो को चमका करती कितनी ब्यूटी फुल
बटन दबाते जल जाती सचमुच वंडर फुल
बिन बिजली के तो सूनी हें महफ़िल सारी
महिमा कितनी महान धन्य बिजली अवतारी
इतनी लिफ्ट मिली लेकिन फिर भी ना फूली
वह नारी हें अपना नारीपन ना भूली
चूल्हे चोके में बर्तन सीने धोने में
बाहर और भीतर घर के कोने कोने में
बिजली जी ने अपना आसन जमा लिया है
सच पुछो नारी को कितना हेल्प किया है
उल्लू से ये तार बने बिजली के वाहन
अब दीपावली को होता बिजली का पूजन
इतनी जनप्रिय किन्तु पतिव्रता धर्म निभाती
जो छूता धक्का दे उसको दूर भागती
जब थक जाती हें तो फ्यूज चला जाता हें
भक्तो ये बिजली वही लक्ष्मी माता हें

BIJALI AVTAR –The Electricity


After seeing women being worshied everywhere
The God was worried seeing Kalyugs atmospehere
The ladies are getting froward everyday
And may start a revolution against me and say
You have taken all the incarnation as a man
And have confiend laxmi ji in a den
She is women and needs to be brought forward
And this time she should take incarnation in this world
He thought and thought and went to laxmi to tell
There is darkness and the world has become a hell
To remove the darkness and to bring in the light
This time for my reincarnation is very right
I would have taken incarnation , He said
But this time going to earth, I am afraid
If born like Ram, people will pass comments
What a fool to go to forest to obey parents
If born like krishna, they would be scandal
Gop and Gopies will beat me with their sandal
If born like Narsimha, than what I will do
They will all Capture me and put in a zoo
Hence dear Laxmi please try to understand
And solve my problems like a good friend
This time you go and take incarnation
Ans see closely the world and my creation
Remove all the darkness and shine like sun
My dear Kamli, become Bijali and have fun.
Don’t bother about me, I will manage
It won’t be difficult for me in this age
But please do come to me, my dear
Some time when there are clouds come as thunder
Laxmi agreed but with a very heavy heart
She was daughter of Ocean but this time smart
She was a women and so kept women’s name
And took worth from river with the help of dam
And a few days she became so popular
Brighting life of everyone, everywhere
By giving incarnation to Laxmi, God was so right
That today nothing is possible without electricity light
If shine in the night and is so beautiful
Sparks with touvh of a button, so wonderfull
Power, light, electricity has become a passion
But she did not forget that she is women
Sweeping, washing, stiching and in the kitchen
She is there in all applicences to help women
These wires like owls are carriers of Bijali
We worship lights on the festival of Deepawali
So popular but still loyal to husband she stay
If one touches, get shocked and thrown away
And the fuse goes off when there is tiredness
Oh friends! Bijali is Laxmi the Godess

रेखा


रेखा
मैंने जब रेखा को देखा,मई था छोटा,वो थी जवान
फिर बार बार उसको देखा, वो थी जवान,मै था जवान
लेकिन इन धुंधली आखो से,अब भी उसको देखा करता
वो है अब भी जवान लगती,लेकिन मै हूँ बूढा लगता
तो मैंने उनसे पूछ लिया,एक बात बताओ रेखा जी
क्यों नहीं तुम्हारे चेहरे पर,है चढ़ी उम्र की रेखा जी
रेखा बोली मुस्का कर के,व्यायाम करो और कम खाओ
योग और प्राणायाम करके, व्यक्तित्व चिर युवा तुम पाओ
थी कितनी स्लिम सायराजी,कितनो के दिल की रानी थी
दुबला पतला छरहरा बदन,सारी दुनिया दीवानी थी
पर जब से पति का प्यार मिला,दूना हो गया दायरा है
पहले जैसी दुबली पतली, अब ना वो रही सायरा है
वह सुंदर कटे बाल वाली,लड़की छरहरे बदन की थी
था नाम साधना हिरोइन मेरे महबूब फिलम की थी
पर जबसे उसको महबूब मिला वह फूली फूली फूल गयी
हो गया घना साधना बदन,अब जनता उसको भूल गयी
तो शादी कर लेने पर जब,आहार प्यार का मिलता है
अच्छा खासा छरहरा बदन,शादी के बाद फूलता है
तो कम खाना और योग,साथ में अबतक मै जो क्वारी हूँ
इसलिए चिर युवा लगती हूँ,मै सुंदर हूँ मै प्यारी हूँ

पर जब से उसको महबूब मिला वह फूली फूली फूल gayee

भविष्यवाणी


भविष्यवाणी
एक प्रोढ़ महिला ने
एक ज्योतिषी को अपना हाथ दिखलाया
तो ज्योतिषी ने बतलाया
आपका जीवन सुखी और संपन्न है
काया निरोग है
मगर माई आपका दो सास का योग है
महिला बोली, आपका सारा ज्योतिष है बेकार
मेरे ससुर तो कभी से गए है स्वर्ग सिधार
पास खड़ा उसका पति बोला
भाग्यवान,ज्योतिषी की बात में दम हैa
तेरी बहू क्या तेरी सास से कम है