चुनाव के बाद

तुम संग कैसे खेले होली
तुम हो नार बड़ी बडबोली
नारी दिवस पर दुखिया नारी
मायावती बहन बेचारी
अब तक बहुत करी बरजोरी
जनता ऐसी बांह मरोरी
हार चुनाव,कट गया पत्ता
और हाथ से छूटी सत्ता
दुखी दूसरी नार सोनिया
बेटे हित सपने थे क्या क्या
सपने सारे टूट गए पर
सारी मेहनत रही बेअसर
भ्रष्टाचार,नकारी ,जनता
दोष संगठन का भी बनता
और तीसरी उमा भारती
बी जे पी भी गयी हारती
उसका जादू काम न आया
खिला कमल ना,पर कुम्हलाया
साईकिल ने पेडल मारे
हाथी,हाथ,कमल सब हारे
तीनो नार आज बेबस है
भले नारी का आज दिवस है
कोई नहीं आज हमजोली
जनता खेली ऐसी होली

मदन मोहन बाहेती’घोटू’

Advertisements