करवटों का मज़ा

नींद ना आती किसी को ,ये सजा है

करवटों का,मगर अपना ही मज़ा है

एक तरफ करवट करो तो दिखे पत्नी,

पड़ी है चुपचाप कुछ बोले नहीं है

एक ये समय है वो मौन रहती,

शांत,शीतल,कोई फरमाईश नहीं है

इस तरह के क्षण बड़े ही प्रिय लगें है,

शांत रहती जब कतरनी सी जुबां है

अगर खर्राटे नहीं यदि भरे बीबी,

भला इतनी शांति मिलती ही कहाँ है

और दूजी ओर जो करवट करो तुम,

छोर दूजा खुला है,आजाद हो तुम

इस तरफ तुम पर नहीं प्रतिबन्ध कोई,

तुम्हारा जो मन करे,वैसा करो तुम

कभी सीधे लेट ,छत के गिनो मच्छर,

बांह में तकिया भरो,जी भर मज़ा लो

करवटों का फायदा एक और भी है,

करवटें ले,पीठ तुम अपनी खुजा लो

करवटें कुछ है विरह की,कुछ मिलन की,

है निराला स्वाद लेकिन करवटों में

करवटों का असर दिखता है सवेरे,

बिस्तरों की चादरों की,सलवटों में

करवटें तुम भी भरो और भरे पत्नी,

नींद दोनों को न आये,एक बिस्तर

जाएँ टकरा ,यूं ही दोनों,करवटों में,

मिलन की यह विधा होती,बड़ी सुख कर

अगर मच्छर कभी काटे,करवटें लो,

जायेंगे दो,चार ,मर,कमबख्त,दब कर

भार सारा इक तरफ ही क्यों सहे तन,

बोझ तन का,हर तरफ बांटो बराबर
नींद के आगोश में चुपचाप जाना,
भला इसमें भी कहीं आता मज़ा है
करवटों से पेट का भोजन पचेगा,
करवटों के लिए ही बिस्तर सजा है
नींद ना आती किसी को ये सजा है
करवटों का मगर अपना ही मजा है

मदन मोहन बाहेती ‘घोटू’

Advertisements