मन बिरहन का

बरस बरस कर रीते मेघा,

उमर कट गयी बरस बरस कर

बरस बरस तक ,बहते बहते,

आंसू सूखे,बरस बरस कर

मन में लेकर,आस दरस की,

रह निहारी,कसक कसक कर

हमने साड़ी,उम्र गुजारी,

यूं ही अकेले, टसक टसक कर

गरज गरज ,छाये घन काले,
बहुत सताया ,घुमड़ घुमड़ कर
आई यादों की बरसातें,
आंसू निकले ,उमड़ उमड़ कर
नयन निगोड़े,आस न छोड़े,
रहे ताकते,डगर डगर पर
मेरे सपने,रहे न अपने,
टूट गए सब,बिखर बिखर कर
ना आना था,तुम ना आये,
रही अभागन,तरस तरस कर
बरस बरस कर,रीते मेघा,
उमर कट गयी,बरस बरस कर

मदन मोहन बाहेती’घोटू’

Advertisements