आपकी परछाईयां

सुबह सुबह जब उगता है सूरज,

परछाईयाँ लम्बी होती है

उसी तरह ,जीवन का सूरज उगता है,

यानी की बचपन,

आप सभी को डेक कर मुस्काते है

किलकारियां भरते है

खुशियाँ लुटाने में,

कोई भेदभाव नहीं करते है

आपकी मुस्कान का दायरा,

सुबह की परछाईं की तरह,

बड़ा लम्बा होता है

और दोपहरी में,

याने जीवन के मध्यान्ह में,

आपकी परछाईं,आपके नीचे,

अपने में ही सिमट कर रह जाती है

वैसे ही आप जब,

अपने उत्कर्ष की चरमता पर होते है,

अहम से अभिभूत होकर,

स्वार्थ में लिपटे हुए,

सिर्फ अपने आप को ही देखते है

और दोपहर की परछांई की तरह,

अपने में ही सिमट कर रह जाते है

और शाम को,
जब सूरज ढलने को होता है,
आपकी परछांई,लम्बी होती जाती है,
वैसे ही जब जीवन की शाम आती है,
आपकी सोच बदल जाती है
आपकी भावनाओं का दायरा,
पुरानी यादों की तरह,
उमड़ते जज्बातों की तरह,
तन्हाई भरी रातों की तरह,
लम्बा होता ही जाता है
जब तक सूरज ना ढल जाता है

मदन मोहन बाहेती’घोटू’

Advertisements