दक्षिणा के साथ साथ

अबकी बार ,जब आया था श्राध्द पक्ष
तो एक आधुनिक पंडित जी ,
जो है कर्म काण्ड में काफी दक्ष
हमने उन्हें निमंत्रण दिया कि ,
परसों हमारे दादाजी का श्राध्द है,
आप भोजन करने हमारे घर आइये
तो वो तपाक से बोले ,
कृपया भोजन का ‘मेनू ‘बतलाइये
हमने कहा पंडित जी,तर माल खिलवायेगे
खीर,पूरी,जलेबी,गुलाब जामुन ,कचोडी ,
पुआ,पकोड़ी सब बनवायेगे
पंडित जी बोले ‘ये सारे पदार्थ ,
तले हुए है,और इनमे भरपूर शर्करा है ‘
ये सारा भोजन गरिष्ठ है ,
और ‘हाई केलोरी ‘से भरा है ‘
श्राध्द का प्रसाद है ,सो हमको खाना होगा
पर इतनी सारी केलोरी को जलाने को,
बाद में ‘जिम’ जाना होगा
इसलिए भोजन के बाद आप जो भी दक्षिणा देंगे
उसके साथ ‘जिम’जाने के चार्जेस अलग से लगेंगे

मदन मोहन बाहेती ‘घोटू’

Advertisements