पते की बात
जिव्हा
नहीं होती कोई हड्डी जीभ में ,
पर हिल कितने ही दिल तोड़ दिया करती है
वही जीभ जब तलुवे से मिल कहती ‘सोरी’,
टूटे हुए दिलों को जोड़ दिया करती है
घोटू

Advertisements