जिव्हा और दांत -मिया और बीबी वाली बात

जिव्हा और दांत

दोनों रहते है साथ साथ

एक सख्त है ,एक मुलायम है

मगर दोनों सच्चे हमदम है

इनका रिश्ता है ऐसे

मियां और बीबी हो जैसे

जिव्हा ,पत्नी सी ,कोमल और नाजुक

दांत,पति से ,स्ट्रोंग और मजबूत

दांत चबाते है ,जिव्हा स्वाद पाती है

पति कमाता है,बीबी मज़ा उठाती है

जिव्हा,चंचल चपल और चुलबुली है

बातें बनाती रहती,जब तक खुली है

दांत, स्थिर ,थमे हुए और सख्तजान है
चुपचाप ,बिना शिकायत के ,करते काम है
बस जब थक जाते है तो किटकिटाते है
और जीभ जब ज्यादा किट किट करती है,
उसे काट खाते है
जैसे कभी कभी अपनी पत्नी पर ,
पति अंकुश लगाता है
मगर फिर भी ,दांतीं की तरह,
उसे अपने आगोश में छुपाता है
दांतों के बीच में जब भी कुछ है फंस जाता
जिव्हा को झट से ही इसका पता चल जाता
और वह इस फंसे हुए कचरे को निकालने ,
सबसे पहले पहुँच जाती है
और जब तक कचरा निकल नहीं जाता ,
कोशिश किये जाती है
जैसे पति की हर पीड़ा ,पत्नी समझती है
और उसकी हर मुश्किल में ,
आगे बढ़ कर मदद करती है
पति पत्नी जैसे ही इनके हालत होते है
दिन भर अपना अपना काम करते है ,
पर रात को चुपचाप ,साथ साथ सोते है

मदन मोहन बाहेती’घोटू’

Advertisements