हम खाने में अव्वल नंबर

कभी समोसा,इडली डोसा,
कभी उतप्पम और साम्बर है
हम हिन्दुस्तानी दुनिया में ,
खाने में अव्वल नंबर है
फल सब्जी को दुनिया में सब,
फल सब्जी जैसे खाते है
पर हम गाजर,लौकी,आलू,
सबका हलवा बनवाते है
भला सोच सकता था कोई ,
कि भूरे कद्दू को लेकर
बने आगरे वाला पेठा ,
अंगूरी ,केसर का मनहर
परवल की सब्जी से भी तो,
हम स्वादिष्ट मिठाई बनाते
आलू,प्याज और पालक की ,
गरमागरम पकोड़ी खाते
आलू की टिक्की खाते है ,
आलू बड़ा ,पाँव और भाजी
सब्जी से ज्यादा सब्जी के ,
व्यंजन खाकर होते राजी
खाने की हर एक चीज में ,
हम बस देते,लज्जत भर है
हम हिन्दुस्तानी दुनिया में ,
खाने में अव्वल नंबर है
बना दूध से रबड़ी ,खुरचन,
कलाकंद और पेड़े प्यारे
दूध फाड़ ,छेने से बनते,
चमचम,रसगुल्ले ,रसवाले
जमा दूध को दही जमाते,
लस्सी और श्रीखंड खाते
आइसक्रीम और कुल्फी से ,
हम गर्मी से राहत पाते
तिल से बने रेवड़ी ,लड्डू ,
खस्ता गज़क ,सर्द मौसम में
मेथी,गोंद ,सौंठ ,मेवे के,
लड्डू खूब बनाए हमने
काजू,पिस्ता ,ड्राय फ्रूट से,
हमने कई मिठाई बनायी
ले गुलाब,गुलकंद बनाया ,
केसर की खुशबू रंग लायी
कभी खान्खरे ,कभी फाफड़े ,
कभी थेपले और पापड है
हम हिन्दुस्तानी दुनिया में ,
खाने में अव्वल नंबर है
मैदा सड़ा ,खमीर उठा कर,
अंग्रेजों ने ब्रेड बनायी
लेकिन हमने उस खमीर से ,
गरमा गरम जलेबी खायी
मोतीचूर बने बेसन से ,
लड्डू,बूंदी,सेव,पकोड़ी
उड़द दाल से बने इमरती ,
हमने कोई चीज न छोड़ी
आटा ,सूजी ,बेसन ,मैदा ,
दाल मूंग की ,या बादामे
ऐसी कोई चीज न जिसका ,
हलवा नहीं बनाया हमने
बारीक रेशे वाली फीनी ,
जाली वाले , घेवर प्यारे
मालपुवे ,मीठे मलाई के,
और गुलाब जामुन मतवाले
चाट ,दही भल्ले ,ललचाते ,
मुंह में आता पानी भर है
हम हिन्दुस्तानी दुनिया में,
खाने में अव्वल नंबर है

मदन मोहन बाहेती’घोटू’

Advertisements