घोटू के पद
1
होली का त्योंहार

आया होली का त्योंहार
साजन कहे ,न मलना गौरी ,मेरे गाल गुलाल
दो दिन नहीं हजामत किन्ही ,बढे हुए है बाल
कमल दलों से ,नाज़ुक,कोमल,हाथ तुम्हारे लाल
चुभ तुमको घायल ना करदे ,बालों का जंजाल
‘घोटू’विहंस ,नायिका बोली,मोहे नहीं मलाल
कितनी बार चुभा तुम दाढ़ी ,घायल किन्हें गाल
इस होली मै ,तुमको रंग कर,बरसा दूँगी प्यार
2
ऐसी, ऋतू बसंत की आई
स्वेटर ,शाल ढके दुबके थे,वो तन पड़े दिखाई
सूखे,फटे कपोलन पर ,अब आने लगी लुनाई
बैठ गेलरी ,चाय पिवत ,बोली राधा ,अलसाई
तुम जल्दी घर पर आ जाना ,आज शाम कन्हाई
बहुत दिनों से ,चाट पकोड़ी ,ना है हमने खायी
देख मूड अच्छा राधा का,कान्हा मन मुस्काई
‘घोटू’छुट्टी ले ,पूरे दिन ,महिला दिवस मनाई

मदन मोहन बाहेती’घोटू’

Advertisements