वक़्त
नचाता अपने इशारों पर हमें ये वक़्त है
ये किसी पर मुलायम है और किसी पर सख्त है
बदल देता एक पल में ,आपकी तकदीर को,
ये कभी रुकता नहीं है ,ये बड़ा कमबख्त है
बहुत कहती घडी टिक टिक ,मगर ये टिकता नहीं,
ना किसी से द्वेष रखता ,और ना अनुरक्त है
इसका रुख ,सुख दुःख दिलाता ,ख़ुशी लाता और गम ,
दिला देता ताज ओ तख़्त ,हिला देता तख़्त है
‘घोटू’ इस पर जोर कोई का कभी चलता नहीं,
इसके आगे ,आदमी क्या है ,खिलोना फक्त है

मदन मोहन बाहेती’घोटू’

Advertisements