फादर’स डे
विदेशों का चलन आजकल ,
भारत मे भी बढ़ता जाता है
एक साल मे एक बार ,
पिताजी का दिन भी आता है
जिसे लोग फादर’स डे कह कर बुलाते है
और अपने पिता को,हेप्पी फादर’स डे के,
कार्ड,तोहफे और शुभकामना संदेश भिजवाते है
बहुत व्यस्त रहते हुये भी कुछ
समय निकाल कर याद कर लेते है
शुभकामना संदेश एस एम एस कर देते है
कोई फोन पर बात करते है,
कोई उपहार या कोई फूल भिजवाता है
और इस तरह बाप का कर्ज चुकाता है
हमने जब ये बात अपने बेटे से बोली
तो उसने बड़े गर्व से अपनी जुबान खोली
कहा बच्चे साल मे कम से कम एक दिन तो,
फादर’स डे मना कर के,
अपने पिता का एहसान चुकाते है
पर क्या आप कभी,
‘सन’स डे’ या’डाटर’स डे ‘मनाते है ?
हमने कहा हमारा तो हर दिन ही ,
बच्चों का दिन हुआ करता है
अब तुम्हें क्या बताएं ,
माँ बाप का दिल तो हमेशा,
अपने बच्चों की खुशी की दुआ करता है

मदन मोहन बाहेती’घोटू’

Advertisements