कुछ  इंग्लिश -कुछ हिंदी

बन्दर जैसा उछला करता ,ऐसी हालत होती मन की
इसीलिये इंग्लिश भाषा में ,बन्दर को कहते है  मन्की
और उँगलियाँ तो औरत की ,होती है नाज़ुक और सुन्दर
तो फिर भिन्डी को इंग्लिश में ,क्यों कहते है ‘लेडी फिंगर’
‘बुल ‘याने कि सांड होता है ,टकराते इंग्लिश के दो’बुल’
तो हिंदी में बन जाती है ,प्यारी और नाजुक सी ‘बुलबुल’
होता है ‘लव गेम’शून्य का,सदा खेल में बेडमिंटन के
पर हिंदी में ‘खेल प्यार का’,कितने फूल खिलाता मन के

मदन मोहन बाहेती’घोटू’

Advertisements