चाकलेट
‘चा’ से चाव ,महोब्बत ,चाहत ,
                      एक दूजे संग ,अपनेपन की
‘क’से कशिश,कामना मन में ,
                       जगती है जब मधुर मिलन की
‘ले’ से लेना देना चुम्बन,
                       ललक ,लालसा फिर लिपटन  की
‘ट’से टशन और टकराहट ,
                        नयन,अधर की और फिर तन की
छू होठों से ,मुंह में जाकर ,
                         घुलती  स्वाद सदा है  देती     
चाकलेट ,प्रेमी जोड़ों का ,
                        मिलन मधुरता से भर देती  
                            
घोटू

Advertisements