ये मेरे अब्बा कहते थे

लेडीज कालेज की बस को वो ,
                          तो हुस्न का डब्बाकहते थे
कोई ने थोडा झांक लिया ,
                               तो ‘हाय रब्बा’कहते थे
लड़की उससे ही पटती है,
                                  हो जिसमे जज्बा कहते थे
मुश्किल से  अम्मा तेरी पटी ,
                                   ये मेरे अब्बा कहते  थे   
मिल दोस्त प्यार के बारे में ,
                                  सब  अपना तजरबा  कहते थे
कोई कहता खट्टा अचार ,
                                     तो कोई मुरब्बा कहते थे
 उल्फत में उन पर क्या गुजरी ,
                                      वो कई मरतबा  कहते थे
जिनको वो बुलबुल कहते थे,
                                    वो इनको कव्वा कहते थे
औरत में और आदमी में ,
                             है अंतर क्या क्या कहते थे
जिसमे दम वो आदम होता ,
                                हौवा  को हव्वा कहते थे

मदन मोहन बाहेती’घोटू’
 

Advertisements