हमारी  व्यायाम क्लास
बजाते रहते जो तूती ,उन्हें कहते है टीपी सिंह ,
                      बजाते सीटियां रहते ,उन्हें दीवान कहते है
डबल है पर है वो सिंगला ,कराते सबको वर्जिश है ,
                       घूमते ,कोने कोने में,सुबह और शाम रहते है
नाम शर्मा है लेकिन वो ,नहीं बिलकुल भी शर्माते ,
                        कसौटी और सोनीजी ,हमेशा साथ  रहते है
जोश भरते है जोशी जी ,बजाते ताली मेहरा जी,  
                       काले चश्में से ,नायक जी,घूमाते नज़रे रहते है
देख कर शुभ शकुन हरकाम है  परदीप जी करते ,
                         एक है बाहेती जी ,जो  हवा के साथ बहते  है
उमर नाना की ,मामा है,चढ़ी फिर से  जवानी है ,
                         यहाँ पर तो सभी सेहत ,बनाते अपनी रहते है

मदन मोहन बाहेती’घोटू’
                    
                   
              

Advertisements