Archive for May, 2011

मै परेशां हूँ मुझे और परेशां न करो


मै परेशां हूँ मुझे और परेशां न करो
—————————————-
दाम पेट्रोल के बद्गते है हरेक महीने में
दाम डीजल के भी तुम ऐसे बढाया न करो
गैस के दाम भी बढ़ जायेंगे ,ये खबर सुना
धधकते दिल को हमारे यूं जलाया न करो
बढ़ेंगे दम ढुलाई के,किराए बस के,
इस तरह रोज ही महंगाई बढाया न करो
मै परेशां हूँ,मुझे और परेशां न करो
न तो कानून की है कोई व्यवस्था अच्छी,
हमारा चैनो अमन ऐसे चुराया न करो
लुट रहे घोटालों में ,लाखों ,करोड़ों रूपये
देश का पैसा विदेशो में भिजाया न करो
हमने ही तुमको जिताया हमारे वोटों से
आज पावर में हो तो हमको सताया न करो
मै परेशां हूँ मुझे और परेशां न करो
मदन मोहन बहेती ‘घोटू’

Advertisements

‘मै’


जब मानव है कुछ पा जाता
और यदि उसमे ‘मै’ आ जाता
वह इतराता
‘मै ‘ का गरूर
मय के सरूर से ,
कई गुना होता है मादक
‘ मै’ आने पर ,
लायक से लायक भी बन जाते नालायक
‘मै’,’मय’,’माया’,
बहुत नशीले ये होते है
‘माया’ का ‘मय’ पी लेने पर
मन में बस ‘मै’ ही ‘मै ‘छाता
‘मै’ तो है अपनों का बैरी ,उन्हें भुलाता
इतना आत्मकेन्द्रित हो जाता है मानव,
सिमटा रहता एक कक्ष में
जिस में लगे हुए होते हर तरफ आईने
और नज़र आता है अक्स स्वयं का केवल,
सभी तरफ होता ‘मै’ ही ‘मै’
वृक्षों में जब फल लगते है,
कहता वृक्ष लगाये मैंने
मगर जड़ों को वह बिसराता
बोकर बीज ,सींच कर किसने बड़ा किया है ,
याद न आता
‘मै’ हूँ,हम है
बड़ा अहम् है
‘मै’ और ‘मेरा’ कुछ ना रहता,सिर्फ बहम है
क्योंकि साथ नहीं कुछ जाता
मेरी मानो
‘मै ‘को पास पटखने मत दो
क्योकि तुम में,अगर नहीं ‘मै’
प्रेम भाव है और समर्पण
तभी सफल होता है जीवन
हे मेरे प्रभु!
मेरे सब ‘मै’ को हर ले तू
मेरे मन में बसा रहे बस एक तू ही तू

मदन मोहन बहेती ‘घोटू’

गधे का अंतर्द्वंद


गधे का अंतर्द्वंद
—————-
इस धूप भरी दोपहरी में,उस पीपल के तरु के नीचे
वो कौन तपस्वी खड़ा हुआ है मौन ,शांत,आँखें मीचे
लाल रेत पर,तीन पैर पर,खड़ा हुआ काया साधे
नयन निराले सुन्दर हैं,रह रह खुलते,आधे आधे
कितना बुजुर्ग है यह साधू,चांदी से बाल हुए सारे
शोभा उसकी बढ़ा रहे है,उसके कान बड़े प्यारे
देवदूत सा लगता है,उजला तन है,उजला मन है
लोभ,मोह से बचने को ,पैरों में पगहा बंधन है
कई कीट,कितने मच्छर,तुन तुन करते,बाधा डाले
पर ध्यान न उसका तोड़ सके,कितने प्रयत्न ही कर डाले
जनहित ही इसने जन्म लिया ,यह सेवाव्रती,धीर प्राणी
कितना परोपकारी है ये,कितना बलवान वीर प्राणी
कितने ही जुलम हुए उस पर,पर सहनशील ने सभी सहा
पर सहनशीलता ,सेवा पर ,लोगों ने उसको गधा कहा
वह सोच रहा है खड़ा खड़ा,है कैसी रीत जमाने की
सब को तो बस आज पड़ी है,अपना काम बनाने की
सब अपने में ही मस्त,दर्द औरों का कोई क्या जाने
है नहीं जोहरी कोई जो ,मुझसे हीरे को पहचाने
लिफ्ट न मुझको मिलती,कितनी लिफ्ट किया करता हूँ मै
लेबर की डिगनिटी में,विश्वास किया करता हूँ मै
लेकिन अपने श्रम की कीमत,मै क्या पाता हूँ बेचारा
दो,चार,पांच,डंडो के संग,कुछ भूसा,कुछ सूखा चारा
नाम बहुत है लेकिन कुछ भी,पूछ नहीं है लेबर की
इसीलिए तो कद्र नहीं,मुझसे श्रमशील जानवर की
मुझको अब तक जान न पायी,जनता कितनी बेसुध है
मै नेता हूँ,मुझमे नेतागिरी का हर गुण मौजूद है
मेरी आवाज बुलंद बहुत,जो जन जन तक है जा सकती
नयी क्रांति फूंक सकेगी,नया सवेरा ला सकती
सहनशील मै नेता सा,मेरे कितने आलोचक है
खड़े कान है टोपी से ,जो नेतागिरी के सूचक है
मुझे पुराणों ने भी माना,बात पुरानी,युग त्रेता
लंका के राजा रावण का,भाई था मै खर नेता
राजनीती का चतुर खिलाड़ी,देखे कई रंग मैंने
सेनापति बन युद्ध किया था,अरे राम के संग मैंने
मुझे याद है बुरी तरह से,मैंने उन्हें खदेड़ा था
बन्दर सब दर कर भागे जब चींपों का स्वर छेड़ा था
सारी दुनिया जान गयी थी,वीर बहुत हूँ सुन्दर मै
और डिफेन्स के लिए एक ही हूँ उपयुक्त मिनिस्टर मै
कलाकार हूँ,कविता करना भी तो मेरे गुण में है
कितनी प्रयोगवादी कविता,मेरी चींपों की धुन में है
बड़े से बड़ा कवि भी मेरे आगे घुटने टेक रहा
नहीं समझ में कविता आती ,तो कहता मै रेंक रहा
मै गायक हूँ,गीत सुना कर,सबका मन बहलाता हूँ
मंत्रमुग्ध सब हो जाते जब अष्ठम स्वर में गाता हूँ
और खिलाडी,मत पूंछो,मुझको बोक्सिंग का शौक लगा
मेरी दुलत्तियों के आगे,कोई ना मुझसे जीत सका
मेरी गदही का दूध बहुत,पोषक,सौन्दर्य प्रसाधक है
बजन और मोटापा कम ,करने में बड़ा सहायक है
मै क्या हूँ,कितना अच्छा,पूछो धोबी,कुम्हारों से
कितनी बड़ी मुसीबत मैंने दूर करी बेचारों से
वे बहुत दुखी थे बेचारे,मैंने उन पर उपकार किया
उनके दुःख दूर किये मैंने,बोझा ढोना स्वीकार किया
मेरी देवी ने कद्र करी,सचमुच मै कितना पावन हूँ
जिनकी सब पूजा करते है,मै शीतला माँ का वाहन हूँ
मोरमुकुट से कान खड़े है,मै भी तो अवतारी हूँ
विष्णु चारभुज धारी है,मै किन्तु चार पग धारी हूँ
शंकर के सर पर एक चन्द्र,मेरे सर पर दो चाँद जड़े
वह एक आह ठंडी भर कर,धीरे से रेंका खड़े खड़े
वह सोच रहा था बेचारा,मेरी किस्मत भी रंग लाये
शांति और सेवा का नोबल प्राईज मुझको मिल जाये
इतने में गरम गरम लू का,एक हल्का सा झोंका आया
साज सजे ,सुर मिले सभी,चींपों कर गदहा चिल्लाया
चींपों,चींपों,चींपों,चींपों,मै जग गया दुनिया वालों
मै क्रांति मचा दूंगा जग में,अब भी संभलो,देखो,भलो
फिर किया दंडवत भगवन को,वो लगा लोटने ढेरी में
अंगों में रमी भभूति फिर,उस धूप भरी दोपहरी में

मदन मोहन बहेती ‘घोटू’

बँटी हुई माँ


बँटी हुई माँ
————-
जिसने बांटा प्यार बराबर सब बेटों में
आज बँट रही वो माँ अपने ही बेटों में
अब बूढी हो गयी अकेली है ,अशक्त है
भूख नहीं लगती,खाने से मन विरक्त है
दस बारह गोली दवाई की नित खाती है
मिनिट मिनिट में बात भूलती,बिसराती है
कमर झुक गयी ,होती है चलने में दिक्कत
मन ना लगता सुनने में अब कथा ,भागवत
दूर गाँव में खाली पड़ी,हवेली उसकी
बची नहीं पर कोई सखी,सहेली उसकी
ख्याल हमेशा जो रखती रहती हम सबका
पर कुछ करना,नहीं रहा अब उसके बस का
अब आश्रित है बेटों पर,कुछ ना कहती है
थोड़े थोड़े दिन हर एक के घर रहती है
अब भी प्यार लुटाती है ,बेटी बेटों में
आज बँट रही वो माँ अपने ही बेटों में

मदन मोहन बहेती ‘घोटू’

भरा हुआ घर


भरा हुआ घर
—————
मेरे मन के स्मृतिपटल पर,
अक्सर छा जाया करता है ,
बचपन का परिवार हमारा
भरा पूरा घर बार हमारा
दादी थी ,माँ,बाबूजी थे,
और सात हम भाई बहन थे
इक दूजे संग पीते खाते
लड़ते ,भिड़ते,हँसते, गाते
इतने बच्चे,इतनी रौनक,
मेहमान भी आते ,जाते
जल्दी उठ कर सुबह, सवेरे
कम काज में माँ लगती थी
झाड़ू,पोंछा,कपडे ,बर्तन
सबके लिए पकाती भोजन
लकड़ी और कंडों से तब जलता था चूल्हा
वो चौके में बैठ पकाती दाल,सब्जियां
और सब बच्चे ,लाइन लगा बैठ जाते थे
थाली के नीचे रख कर कंडे का टेका
दल और सब्जी पुरसी जाती थाली में,
एक एक कर रोटी बनती ,
और नंबर से हम खाते थे
माँ के हाथ बनी उस रोटी और सब्जी में
सचमुच स्वाद गजब आता था
और शाम को,यही सिलसिला चल जाता था
करती दिन भर काम रात तक,
माँ होगी कितनी थक जाती
किन्तु हमें कर तृप्त ,तृप्ति जो ,माँ की आँखों में थी आती
मुझे याद है
माँ ,बाबूजी सोते थे अपने कमरे में
और रात को ,लगती बिस्तर की लाइन ओसारे में
या गर्मी में छत के ऊपर
हम सब बच्चे,
सुनते थे दादी से किस्से
कभी खेलते अन्ताक्षरी थे
वो क्या दिन थे
इतने बच्चे,
पर सब अनुशासन में रहते थे
इक दूजे का होमवर्क निपटा देते थे
बड़े भाई की सभी किताबें ,
काम आ जाती थी छोटों के
और बड़ों के छोटे कपडे,
खुश हो पहन लिया करते थे
साथ उम्र के बड़े हुए हम
शादी करके सब बहने ससुराल गयी और,
हम सब भाई व्यस्त हुए अपने धंधों में
इधर उधर जा तितर बितर परिवार हो गया
हम बच्चों ने,
तब सचमुच जीया था बचपन
ना था इतना कोम्पीटीशन,न ही टेंशन
और आज मै,व्यस्त जॉब में
पत्नी भी सर्विस करती है,बहुत व्यस्त है
बच्चे होमवर्क में उलझे,या टी वी में हुए मस्त है
भूख लगे तो ,डोमिनो से,
एक पीज़ा मंगवा लेते है
सिर्फ एक सन्डे के दिन मिलजुल खाते है
अब एकल परिवार हो गए ,
जीवन पध्दिती में आया है कितना अंतर
पर मैंने जीया,भोगा है ,भरा हुआ घर

मदन मोहन बहेती ‘घोटू’

होती गर जो मोबाईल मै


होती गर जो मोबाईल मै

——————————

मेरे प्रीतम ,होती गर जो मोबाईल मै

बस ,बस कर ही रह जाती,तुम्हारे दिल में

तुम्हारे प्यारे हाथों में सिमटी रहती

होठों से और गालों से बस चिपकी रहती

होता जब भी मेरे मन में वाइब्रेशन

तो झट से अपने हाथों में ले लेते तुम

मै खुश रहती इसी आस में

सोवोगे रख मुझे पास में

और जब मेरी घंटी बजती

मै तुम्हारे होठों लगती

तुम मुस्काते

घंटों मुझसे करते बातें

छूकर टच स्क्रीन ,मुझे जब टच तुम करते

मुख पर कितने भाव उमड़ते

‘सेमसंग’ की तरह सदा मै रहती संग में

‘स्पाइस’ की तरह चटपटी रहती मन में

नहीं दूसरा ‘सिम’ ,आने देती जीवन में

और मोबाईल होने पर भी,

साथ तुम्हारे हरदम टिकती

तुम्हारी महिला मित्रों के,

सारे एस एम एस तुम्हारे

सबसे पहले मुझको मिलते,

मै उनको डिलीट कर देती बस एक पल में

मेरे प्रीतम ,होती गर जो मोबाईल मै

मदन मोहन बहेती ‘घोटू’

फसल कथावाचक – संतों की


नयी उम्र की नयी फसल तो ,

हर युग में पैदा होती है,

लेकिन पिछले कुछ वर्षों से,

बुरी तरह से विकस रही है,

फसल कथावाचक संतों की

हर मंदिर में ,हर तीरथ में,

और टी वी की कुछ चेनल में

नज़र कोई पंडित जी आते

कथा, भागवत गान सुनाते

उसमे भी आधे से ज्यादा

टाइम भजन ,कीर्तन गाते

बड़े भव्य से पंडालों में

कथा भागवत ये करते है

और कथा में भी कमाई का,

जरिया ढूंढ लिया करते है

व्यासपीठ से बतलायेंगे

कल प्रसंग रुक्मणी विवाह का ,

जिनने खुद का हरण करा कर,

श्री कृष्णा से ब्याह रचाया

कन्यादान रसम में उनको,

इसीलिए कुछ ना मिल पाया

इसीलिए रुक्मणी विवाह में,

जो भी श्रोता,

वस्त्राभूषण दान करेगा

उसको काफी पुण्य मिलेगा

कथा सुदामा की होगी तो बतलायेगे

भक्त सुदामा मुट्ठी भर चावल लाये थे,

प्रतिफल में प्रभु ने कितना एश्वर्य दे दिया

जो श्रोता श्रीकृष्णा को चावल लायेगे

प्रभु कृपा से ,वो धन और दौलत पायेगे

और पुण्य के लोभी श्रोता,

इक दूजे की प्रतिस्पर्धा में

खुले हाथ से दान चढाते

और पंडितजी के भंडारे भरते जाते

बहुत लाभदायक ये धंधा,

इसमें इज्जत है, दौलत है,

बहुत नाम है और शोहरत है

कई बार मै सोचा करता,

कथा भागवत की है वो ही,

लेकिन बार बार सुनने को

इतनी भीड़ उमड़ती क्यों है?

किया विवेचन तो ये जाना,

कुछ संताने

मात पिता को भिजवाती है,

कथा भागवत की सुन कर के पुण्य कमाने

इसी बहाने,

थोड़े दिन तक बच जाते सुनने से ताने

और मिल जाती

कुछ दिन अपने ढंग से जीने की आजादी

और ऐसी ही सोच बुजुर्गों में भी होती,

वे भी खुद को,

रंगते कथा भागवत रंग से

थोड़े दिन तक ,जीवन जीते अपने ढंग से

इसीलिए ऐसे आयोजन में जनता उमड़ी आती है

और हर दिन फल फूल रहा है,

धंधा इन सब नव संतों का

मदन मोहन बहेती ‘घोटू’